बाइक पर सवार होकर ये लड़कियां ग्रामीण समाज को अहसास दिलाती हैं कि बेटियां महज चूल्हा-चौके के लिए नहीं होती हैं।

Go to Source

Leave a Reply