राजनीति के केंद्र में रहे अधिकतर आदिवासी गरीबी, बेरोजगारी, अशिक्षा से जूझते हुए तमाम मूलभूत सुविधाओं के लिए तरस रहे हैं।

Go to Source

Leave a Reply