कहावत है-दूध का जला छाछ भी फूंक-फूंककर पीता है।

Go to Source

Leave a Reply