छानबीन में यह भी तथ्य सामने आए कि ऋण लेने वालों के खाते से चार करोड़ 27 लाख रुपये एम/एस वंशीधर एंड संस के खाते में चुरा लिए गए।

Go to Source

Leave a Reply