रांची : आजादी के साथ देश विभाजन के बाद पाकिस्तान में भड़की ¨हसा की आग ने सैकड़ों परिवारों को बेधर कर दिया। उस कई लोग रांची में भी आए। पहले शरणार्थी कैँपों में रहे और बाद में शास्त्री मार्केट में अपना काराबार शुरू किया।

Go to Source

Leave a Reply